Quotes

    Bhagavad Gita Quotes in Hindi | श्रीमद् भागवत गीता कोट्स

      हमारे जीवन में अक्सर ऐसे क्षण आते हैं जब हम दुविधा में होते हैं और सही समय पर सही निर्णय नहीं ले पाते। ऐसे में श्रीमद भगवत गीता के श्लोक में मनुष्य जीवन की हर समस्या का हल छिपा है। गीता के 18 अध्याय और 700 गीता श्लोक में कर्म, धर्म, कर्मफल, जन्म, मृत्यु, सत्य, असत्य आदि जीवन से जुड़े प्रश्नों के उत्तर मौजूद हैं। आपके लिए Bhagavad Gita Quotes in Hindi इस पोस्ट में हम कुछ महत्वपूर्ण लेकर आए हैं, जिनसे आप प्रेरणा ले सकते हैं।

      Bhagavad Gita Quotes in Hindi

      श्रीमद् भागवत गीता: जिसको हम गीता के नाम से जानते हैं, वह 700 श्लोक का एक हिंदू लेख है, जो महान युद्ध महाभारत का ही एक हिस्सा है। यह दरअसल महान पांडव राजकुमार अर्जुन और उनको रास्ता दिखाने वाले भगवान श्री कृष्ण के बीच में हुई बातचीत का भाग है। यह संस्कृत भाषा में लिखी गई है, महान लेखक ‘व्यास जी’ के द्वारा। ऐसा कहा जाता है कि भगवत गीता में हमारी जिंदगी से जुड़े सारे सवालों के जवाब हमें मिल जाते हैं।

      अगर आपको अपनी जिंदगी में कोई दुख हो या कोई परेशानी हो या आप किसी ऐसे रास्ते में फंस गए हैं जिसके दो मार्ग। और आपको समझ नहीं आ रहा आपको कौन सा रास्ता चुनना चाहिए तो आप भगवत गीता पढ़ लीजिए आपको आपकी सारी परेशानियों के जवाब मिल जाएंगे। भगवत गीता का उपदेश सुनते ही या पढ़ते ही आपकी सारी परेशानियां एकदम से हल हो जाएंगी और आप बहुत शांत महसूस करेंगे। कहते हैं गीता को पढ़ लेने से आपके सारे जन्मों के पाप इसी जन्म में खत्म हो जाते हैं।

      श्रीमद् भागवत गीता का इतिहास: कहते हैं कुरुक्षेत्र की पृष्ठभूमि में, 5000 साल पहले, भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को उपदेश दिया था, जो श्रीमद्भगवद्गीता के रूप में प्रसिद्ध है। भले ही पुराना है लेकिन यह आज के दौर में भी आपकी सारी परेशानियों के हल आपको दे सकता है। भगवत गीता आपको एक जीने का ऐसा ढंग सिखाती है जो भरोसे और त्याग पर निर्भर होता है। जब तक आपको किसी चीज पर भरोसा नहीं है आप उसको हासिल नहीं कर सकते और जब तक आप प्यार नहीं करेंगे तब तक आपको कुछ हासिल नहीं होगा।

      भरोसे और त्याग से ही आपको सब कुछ हासिल हो सकता है। गीता में श्रीकृष्ण ने अर्जुन को यह बता कि वह भगवान विष्णु के अवतार हैं। ‌ भगवत गीता में बताया है जीवन का अर्थ क्या है। जीवन का अर्थ जानना है तो पहले खुद से पूछो कि तुम्हारा कर्तव्य क्या है, जो तुम्हारा कर्तव्य है उसे अपने पूरे दिल से निभाओ। और तुम्हारा कर्तव्य एक ऐसी चीज होनी चाहिए जो तुम्हें करना बहुत पसंद हो, तभी तुम खुश रह पाओगे और जो तुम्हारे आसपास हैं वह भी खुश रह पाएंगे।

       

      Bhagavad Gita Quotes in Hindi

       

      सब में मैं हूँ, मैं हूँ, मैं ही हूँ..

       

      मैं ही सबकी शुरुआत हूँ। मैं शुरू से भी पहले था और सब ख़तम होने के बाद भी रहूँगा। सब मुझमें हैं और मैं सब में हूँ। जो भी तुम देख सकते हो, छू सकते हो, सुन सकते हो या चख सकते हो वो सब मैं हूँ। ये नदियां, पहाड़, सूरज, ग्रहण, चाँद, सितारे सब मैंने बनाये हैं। मैंने ही भगवान, राक्षस और शैतान बनाए। मैं सर्वव्यापी हूँ। मैं ही ब्रह्मा बनके सब बनाता हूँ और रूद्र बनके सब नष्ट कर देता हूँ। मैं ये सृष्टि यूँ ही बनता और तोड़ता रहूँगा, ताकि आत्मायों को मौके मिल सकें, जन्म और मृत्यु से मोक्ष पाने को और हमेशा के लिए परमात्मा के साथ रहने को।

       

      आत्मा अजन्मी है, इसे कोई मार नहीं सकता

       

      भगवान कृष्ण ने अर्जुन को सन्देश दिया कि आत्मा को कोई जला नहीं सकता, डूबा नहीं सकता और न ही काट सकता है। लेकिन आत्मा को परमात्मा के साथ हमेशा रहने के लिए ये परीक्षा रुपी जीवन में बैठना ही पड़ेगा। इस परीक्षा के लिए परमात्मा से बिछड़ के आत्मा को पृथ्वी पर किसी न किसी रूप में जन्म लेना पड़ता है। 88 करोड़ जूनियों को जीने और भोगने के बाद एक आत्मा को मनुष्य का शरीर और दिमाग मिलता है।

       

      श्रीमद् भगवत गीता कोट्स हिंदी में

       

      हर आत्मा को अपने अंदर के तामसिक और राजसिक अवगुणो से निकल के सात्विक जीवन में प्रवेश करने के मोके मिलते हैं।

       

      हमारे तामसिक गुण वो हैं जो हमारे अंदर हीन भावना पैदा करके हमें खुद को उदास और नुक्सान पहुंचाते हैं। हमारे राजसिक गुण हमें लालची और ईर्ष्यालु बनाके दूसरों के प्रति नुक्सान पहुंचा सकते हैं। इस जीवन की परीक्षा में सबको अपने तामसिक और राजसिक गुणों को परित्याग करके अपने सात्विक गुणों से परिचित होना पड़ेगा। सात्विक गुण वो हैं जो आत्मा को अपने आस पास की हर चीज़ से जोड़ें और उन्हें प्यार करना सिखाएं।

       

      धर्म वही है जो धारण किया हुआ है, जिसे आपका दिल मानता है।

       

      जैसे झूठ नहीं बोलना, चोरी नहीं करनी, भगवान का निरादर नहीं करना, दूसरों को नुकसान नहीं देना। हर आत्मा को अपने जीवन काल में हर समय धर्म का पालन करना होगा और धर्म की रक्षा करनी होगी।

       

      Quotes from Bhagavad Gita in Hindi

       

      हर मनुष्य के अंदर काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार और ईर्ष्या जैसी भावनाएं हमें अपने और दूसरों के प्रति नुक्सान पहुंचा सकती हैं।

       

      इन भावनाओं को मनुष्य को हमेशा अपने नियंत्रण में रखना होगा, क्योंकि इनके बहाव में किया गया कोई भी काम हमारी जीवन भर की परेशानी का कारण बन सकता है।

       

      हमारी इच्छाएं ही मूल कारण हैं, हमारा पृथ्वी पर वापिस आने का

       

      इस परीक्षा रुपी जीवन में हर मनुष्य हर समय कुछ इच्छाएं रखता है। कुछ इच्छाएं एक ही जन्म काल में पूरी हो जाती है, तो कुछ अधूरी रह जाती हैं और उनको पूरा करने के लिए आत्मा को फिर से पृथ्वी पर आना पड़ता है। अगर हम कोई भी इच्छा न रखें तो हम इस जीवन और मृत्यु से मुक्त हो सकते हैं।

       

      Bhagavad Gita Quotes on Life

       

      Bhagavad Gita Quotes in Hindi on Positive Thinking

       

      तुम खाली हाथ आए थे, और तुम खाली हाथ चले जाओगे।

       

      परीक्षा का समय ख़तम होते ही आत्मा शरीर और अन्य सब वस्तुओं का त्याग कर देती है। जो भी संसार में रहकर बनाया वो अब किसी और का होगा और आत्मा अपने कर्मो के फैसले के लिए चली जाती है। अपने अच्छे कर्मों के लिए आत्मा कुछ समय के लिए स्वर्ग और बुरे कर्मों के लिए नर्क में चली जाती है। हर जन्म में अपने कई जन्मों के हिसाब से हर आत्मा को कभी अच्छे और कभी बुरे हालातों से जाना पड़ता है। लेकिन जब तक आत्मा परमात्मा के साथ योग को नहीं समझ लेती, वो मुक्ति नहीं पा सकती।

       

      Bhagavad Gita Quotes on Positive Thinking

       

      शिक्षा और ज्ञान उसी को मिलता है, जिसमें जिज्ञासा होती है।

       

      अगर आप किसी का आदर करते हो और विनम्रता से उस से सवाल पूछते हो तो आपको ज्ञान मिलता है। ज्ञान लेने के लिए सबसे जरूरी है सवाल पूछना। जब तक सवाल नहीं पूछोगे तब तक कोई ज्ञान नहीं देगा। किताबों में लिखी और सुनी बातों पर भी तर्क करना जरूरी है।

       

      सुख – दुख का आना और चले जाना सर्दी-गर्मी के आने-जाने के समान है।

       

      ख़ुशी सबकी चाहिए लेकिन पता किसी किसी को है कि ख़ुशी पानी कैसे है। भगवद गीता में लिखा है कि न सुख ज्यादा देर टिकता है और न दुःख, ये मौसम की तरह बदलते रहते हैं। इन्हे सहना सीखना चाहिए।

       

      मनुष्य अपने शरीर, दिमाग या दिल से भगवान को पा सकता है।

       

      शरीर द्वारा किए कर्मों के माध्यम से परमात्मा को पाने को कर्मयोग कहते हैं। ऐसे कर्म जो परमात्मा की इच्छा से हों और दूसरों के कल्याण के लिए हों।

       

      श्रीमद् भागवत गीता उपदेश

       

      Bhagavad Gita Quotes in Hindi on Karm

      जो हुआ वह अच्छे के लिए हुआ है, जो हो रहा है वह भी अच्छे के लिए ही हो रहा है, और जो होगा वह भी अच्छे के लिए ही होगा।

       

      इस लिए आप जिस वजह से उदास हैं, उसे भूल जाइए। अगर आपका जॉब इंटरव्यू अच्छा नहीं गया या फिर आपकी रिलेशनशिप अच्छी नहीं चल रही तो ये समझिये ऐसा ही होना लिखा है और ये अच्छे के लिए ही है। ये सब कुछ किसी कारण से ही हो रहा है। आपको भविष्य के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, न ही आपको अतीत पर ध्यान देना चाहिए। आपके पास केवल वर्तमान पर नियंत्रण है, इसलिए इसे पूरी तरह से जीएं।

       

      कर्म करो फल की चिंता मत करो।

       

      भगवद् गीता में कहा गया है कि कर्म करते जाओ लेकिन फल की चिंता कभी मत करो। आज हम केवल पैसे के लिए, बेहतर घर, कार और सुरक्षित भविष्य के लिए काम कर रहे हैं। अगर हमें भविष्य में ऐसा नहीं मिलता तो दुःख होना लाज़मी है। इसलिए काम करते रहें और बदले में कुछ भी उम्मीद न करें।

       

      Bhagavad Gita Quotes on Karma

       

      जो लोग दिमाग को नियंत्रित नहीं करते वह उनके लिए एक दुश्मन की तरह काम करता है।

       

      अपने मन पर नियंत्रण रखना अत्यधिक आवश्यक है। अगर आप अपने मन पर पर नियंत्रण नहीं करते तो आपका ही मन आपके लिए शत्रु का काम करेगा।

       

      Bhagavad Gita Quotes on Life in Hindi

       

      आत्मा न तो पैदा होती है, और न ही वह मरती है

       

      भय और चिंता हमारे दो दुश्मन हैं। जब हमारे भीतर एक डर पैदा हो जाता है तो हम कुछ भी हासिल नहीं कर सकते। ये डर हमारे सपनों और महत्वकांक्षाओं को मारता है। निडर बनिए, निडर व्यक्ति को कोई नहीं रोक सकता। इसी प्रकार मृत्यु का डर भी बेतुका है, क्योंकि आत्माएं मरती नहीं।

       

      भगवत गीता कोट्स हिंदी में

      Geeta Quotes in Hindi

       

      मनुष्य अपने विश्वास से बनता है। जैसा वह मानता है, वैसे ही वह बन जाता है।

       

      आपकी ज़िन्दगी में चाहे कैसा भी समय चल रहा है आपको हमेशा खुद पर विश्वास रखें चाहिए। समय कितना भी बुरा हो, अगर आपको अपने ऊपर विश्वास है तो वो बाधा भी दूर हो जाएगी।

       

      जो लोग दिमाग को नियंत्रित नहीं करते वह उनके लिए एक दुश्मन की तरह काम करता है।

       

      सबसे ज्यादा कठिन है अपने मन को नियंत्रित करना। ये मन बहुत चंचल है। अगर आपका अपने मन पर  नियंत्रण है तो आपका अपने ऊपर नियंत्रण है। अगर आपका खुद का मन नियंत्रण में नहीं होगा तो वो आपके लिए आपके दुश्मन की तरह ही काम करेगा।

       

      सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति को प्रसन्नता ना इस लोक में मिलती है ना ही कहीं और।

       

      शक ऐसी चीज़ है जिसकी वजह से कभी भी किसी को ख़ुशी नहीं मिलती। इसलिए कभी भी किसी पर संदेह मत करो।

       

      Bhagavad Gita Quotes in Hindi with Images

       

      वासना, क्रोध और लोभ नरक के तीन द्वार हैं।

       

      Bhagavad Gita Motivational Quotes in Hindi

       

      प्रेम, सहिष्णुता और निस्वार्थता को अपने जीवन में लाना चाहिए।

       

      अपना अनिवार्य कर्तव्य निभाएं, क्योंकि कर्म करना वास्तव में कर्म न करने से बेहतर है।

       

      ये मन ही है जो किसी का मित्र और किसी का शत्रु होता है।

      Bhagavad Gita Quotes in Hindi Meaning

       

      एक महान व्यक्ति द्वारा जो भी कार्य किया जाता है, आम आदमी उसके नक्शेकदम पर चलता है, और जो भी मानक वह अपने कार्य द्वारा निर्धारित करता है, उन्हें सारी दुनिया अपनाती है।

       

      जो पैदा हुआ है उसकी मृत्यु भी निश्चित है, जैसे जो मृत है उनके लिए जन्म। इसलिए जिसे बदल नहीं सकते उसके लिए शोक मत करो।

       

      निस्वार्थ सेवा के माध्यम से, आप हमेशा फलदायी रहेंगे और अपनी इच्छाओं की पूर्ति पाएंगे।

      Bhagavad Gita Quotes in Hindi with Images

      Bhagavad Geeta Quotes in Hindi

       

      जब ध्यान में महारत हासिल होती है, तो मन एक हवा रहित स्थान पर दीपक की लौ की तरह अटूट होता है।

       

      हमें अपने लक्ष्य से बाधाओं ने नहीं, बल्कि एक ऐसे आसान रास्ते ने रोका है जिसपर कोई लक्ष्य ही नहीं।

       

      जिन्होंने आपके साथ बुरा किया, उनको माफ़ करके और जिनका आपने बुरा किया उनसे माफ़ी मांग के मुक्ति पाई जा सकती है।

      भागवत गीता कोट्स

       

      जब तक आत्मा इन चारो दरवाज़ों धर्म, काम, अर्थ और मोक्ष को समझ नहीं लेती तब तक आत्मा को बार बार इस मनुष्य रूप में आना ही पड़ेगा।

       

      श्रीमद् भागवत गीता उपदेश

       

      भगवत गीता में एक बहुत अच्छी सीख दी गई है। इसमें बताया गया है कि जो होता है, अच्छे के लिए होता है और जो हुआ है, वह भी अच्छे के लिए ही हुआ है और जो होने वाला है, वह भी अच्छे के लिए ही होगा। बिना कारण इस दुनिया में कोई भी चीज नहीं होती है, हर चीज का एक कारण होता है और जो भी कारण होता है वह हमेशा हमारे अच्छे के लिए ही होता है। इसमें यह भी बोला कि आप रोते क्यों हैं, क्या आपने कुछ खोया है।

      आप कुछ खो ही नहीं सकते , क्योंकि आप अपने संग इस दुनिया में ऐसा कुछ लाते ही नहीं है जो आप खो दें। आज आपके पास जो भी है, वह सब भगवान का दिया है और आप जो भी ग्रहण करेंगे, वह भी भगवान का ही होगा और आप उसे भगवान को समर्पित कर देंगे। आप इस धरती पर खाली हाथ आए थे और खाली हाथ ही जाएंगे तो फिर किस बात के शिकवे गिले। भगवत गीता में ऐसी और भी बहुत अच्छी सीख दी गई है जिंदगी जीने के लिए। यह मानना महान वैज्ञानिक और आविष्कार अल्बर्ट आइंस्टीन का भी है यदि आप भगवत गीता पढ़ते हैं तो आपका मन बहुत शांत हो जाएगा और आप अपने जीवन को सफल और सुखी तरीके से जी पाएंगे।

      आखरी शब्द: हम उम्मीद करते हैं आपको इन ऊपर दिए गए Bhagavad Gita Quotes in Hindi से कुछ प्रेरणा मिलेगी, आप भ्रम की स्थिति से बहार निकलेंगे और अपन जीवन में बेहतर निर्णय ले सकेंगे। इन भगवद गीता कोट्स को अपने दोस्तों और चाहने वालों के साथ भी साँझा करें ताकि उनकी मुश्किलों का भी हल हो सके। धन्यवाद्।