Other Stuff

    15 अगस्त पर भाषण – Independence Day speech in Hindi | 15 August Speech in Hindi

      15 August Speech in Hindi | Independence Day Speech in Hindi –

      15 अगस्त पर भाषण हिंदी में

      स्वतंत्रता दिवस समारोह पर भाषण का अर्थ उस व्यक्ति के लिए बहुत महत्वपूर्ण है जो देश के बारे में लोगों के सामने स्वतंत्रता का इतिहास, देशभक्ति, राष्ट्रवाद, भारतीय राष्ट्रीय ध्वज, भारत के राष्ट्रीय त्यौहार स्वतंत्रता दिवस का महत्त्व या भारतीय स्वतंत्रता से सम्बंधित किसी विषय के बारे में अपने विचारों को व्यक्त करने में रूचि रखता है| यहां हमने स्कूल जाने वाले बच्चों और छात्रों के लिए भारत के स्वतंत्रता दिवस पर विभिन्न भाषण लिखे हैं| स्टूडेंट्स के साथ साथ हमने ये भाषण (Independence Day speech in Hindi) उन लोगों के लिए भी लिखा है जो प्रोफेशनल्स हैं और अपने ऑफिस में जाते हैं|

      Independence Day speech in Hindi

      कोई भी वयक्ति, यहाँ तक के छोटा सा छात्र आसानी से इन भाषणों को याद कर सकता है और दर्शकों के सामने दोहरा कर वाह वाही और तालियां हासिल कर सकता है| 15 अगस्त पर भाषण राष्ट्रवाद और देध्भाक्ति से भरे होते हैं जो दर्शकों को लुभा कर बांध कर रखते हैं| छात्रों के इलावा कोई भी पेशेवर इन भाषणों को कार्यालयों में या किसी भी जगह पर इंडिपेंडेंस डे भाषण (15 August Speech in Hindi) के रूप में सुना सकता है|

      अगर आप छात्र हैं और आप स्कूल या कॉलेज में सवतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं तो यहां हमने स्कूल जाने वाले बच्चों और छात्रों के लिए हिंदी में Happy Independence Day 2019 पर विभिन्न भाषण (Independence Day speech in Hindi) लिखे हैं| छात्र 2019 में दिए गए स्वतंत्रता दिवस भाषण में से इन में से किसी का उपयोग करके भारत के स्वतंत्रता दिवस समारोह में सक्रीय रूप से भाग ले सकते हैं|

      Independence Day Speech in Hindi:

      मेरे सभी सम्मानित अध्यापको, माता-पिता और प्यारे दोस्तों और सहपाठियों को नमस्कार| आज हम इस महान राष्ट्रीय कार्यक्रम का जश्न मनाने के लिए यहां एकत्र हुए हैं| जैसा की हम सभी जानते हैं की स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) हम सभी के लिए एक शुभ अवसर है| भारत का स्वतंत्रता दिवस सभी भारतीय नागरिकों के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिन है और इसका इतिहास में हमेशा के लिए उल्लेख किया गया है| यह वह दिन है जब हमें भारत के महान स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा कई वर्षों के कठिन संघर्ष के बाद अंग्रेजों से आजादी मिली|
      हम भारत की आजादी के पहले दिन को याद करने के साथ-साथ 15 अगस्त को हर साल स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं साथ ही उन महान नेताओं के सभी बलिदानों को भी याद करते हैं जिन्होंने भारत को आजादी दिलाने में अपना बलिदान दिया|

      भारत को ब्रिटिश शासन से 1947 में 15 अगस्त को आज़ादी मिली| स्वतंत्रता के बाद हमें अपने सभी मूल अधिकार अपने राष्ट् अपने मातृभूमि में मिले| हम सभी को एक भारतीय होने पर गर्व महसूस करना चाहिए और अपने भाग्य की प्रशंसा करनी चाहिए की हमने एक स्वतन्त्र भारत की भूमि पर जन्म लिया| गुलाम भारत का इतिहास सब कुछ बताता है की कैसे हमारे पूर्वजों ने कड़ी मेहनत की थी और अंग्रेजों को भारत देश से खदेड़ा था|

      आप और हम अब आजाद भारत में यहां बैठकर कल्पना नहीं कर सकते की ब्रिटिश शासन से भारत के लिए आजादी कितनी कठिन थी| इसके लिए 1857 से 1947 तक कई स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन और कई दशकों के संघर्ष का बलिदान दिया| ब्रिटिश सेना में एक भारतीय सैनिक (मंगल पांडे) ने पहली बार भारत की स्वतंत्रता के लिए अंग्रेजों के खिलाफ आवाज उठाई थी|

      बाद में कई महान स्वतंत्रता सेनानियों ने संघर्ष किया और केवल स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए अपना पूरा जीवन लगा दिया| हम भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव और चंद्रशेखर आज़ाद के बलिदानों को कभी नहीं भूल सकते जिन्होंने अपने देश के लिए लड़ने के लिए कम उम्र में ही अपनी जान गँवा दी थी| हम नेताजी और गांधीजी के सभी संघर्षों को कैसे अनदेखा कर सकते हैं? गांधीजी एक महान भारतीय व्यक्तित्व थे जिन्होंने भारतीयों को अहिंसा का एक बड़ा पाठ पढ़ाया था|

      वह केवल और केवल वही थे जिन्होंने भारत को अहिंसा की मदद से स्वतंत्रता प्राप्त करने का नेतृत्व किया| आखिरकार लम्बे समय के संघर्ष का परिणाम 15 अगस्त 1947 को सामने आया जब भारत को स्वतंत्रता मिली|

      हम इतने भाग्यशाली हैं की हमारे पूर्वजों ने हमें शान्ति और खुशी की भूमि दी है जहां हम पूरी रात बिना किसी डर के सो सकते हैं और अपने स्कूल या घर में पूरे दिन का आनंद ले सकते हैं| हमारा देश प्रौद्योगिकी शिक्षा, खेल वित्त और अन्य विभिन्न क्षेत्रों में बहुत तेजी से विकास कर रहा है जो आजादी से पहले लगभग असंभव था| भारत परमाणु शक्ति संपन्न देशों में से एक है| हम ओलम्पिक राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों जैसे खेलों में सक्रीय रूप से भाग लेकर आगे बढ़ रहे हैं| अभी हाल ही में भारत द्वारा किया गया चंद्रयान -2 का सफलतापूर्वक पर्शिक्षण पूरी दुनिया में सराहया गया|

      हमें अपनी सरकार चुनने और दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का आनंद लेने का पूरा अधिकार है| हाँ हम स्वतन्त्र हैं और पूरी स्वतंत्रता है| हालांकि हमें खुद को अपने देश के प्रति जिम्मेदारियों से मुक्त नहीं समझना चाहिए| देश के जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हमें अपने देश में किसी भी आपातकालीन स्थिति को संभालने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए|
      जय हिन्द | जय भारत ||

      15 अगस्त पर भाषण – Independence Day speech in Hindi | 15 August Speech in Hindi

      15 August Speech in Hindi:

      महानुभावों सम्मानित शिक्षकों और मेरे प्रिय साथियों को शुभ प्रभात| हम यहां 73th स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए एकत्र हुए हैं| मुझे इस अवसर पर भाषण देने का मौका देने के लिए मैं आप सब का आभारी हूँ| मैं अपने क्लास टीचर का बहुत आभारी हूँ की उनहोंने मुझे अपने देश के स्वतंत्रता दिवस पर अपने विचार कहने का विशेष अवसर दिया| स्वतंत्रता दिवस के इस विशेष अवसर पर मैं अंग्रेजी शासन से आजादी पाने के लिए भारत के संघर्ष पर भाषण (15 August Speech in Hindi) देना चाहूंगा|

      बहुत साल पहले महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों को अपने जीवन के आराम का त्याग करके नीति के साथ एक जुट होकर हमें एक स्वतन्त्र और शांतिपूर्ण देश देने के लिए प्रयास किया गया था| आज हम अपने बहादुर सेनानियों की वजह से बिना किसी डर के और ख़ुशी से चहकते चेहरों के साथ स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए यहां इकठ्ठा हुए हैं|

      हम कल्पना नहीं कर सकते के वो संघर्ष वाला समय कितना महत्वपूर्ण था| हम अपने उन पूर्वजों की मेहनत और बलिदानों के बदले कुछ भी नहीं दे सकते| हम केवल उन्हें और उनके कार्यों को याद कर सकते हैं और राष्ट्रीय आयोजनों का जश्न मनाते हुए दिल से सलाम कर सकते हैं| वे हमेशा हमारे दिलों में रहेंगे|

      भारत के कुछ महान स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस, जवाहर लाल नेहरू, महात्मा गांधीजी, बाल गंगाधर तिलक, लाला लाजपत राय, भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव, खुदी राम बोस और चंद्रशेखर आज़ाद हैं| वे प्रसिद्द देशभक्त थे जिन्होंने अपने जीवन के अंत तक भारत की स्वतंत्रता के लिए कठिन संघर्ष किया| हम कल्पना नहीं कर सकते की हमारे पूर्वजों द्वारा संघर्ष किए गए भयानक क्षण|

      इतिहास को बदलना असंभव है लेकिन हम हमेशा भविष्य को बदल सकते हैं और नया इतिहास बना सकते हैं| स्वतंत्रता दिवस वास्तव में भारत के इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण दिनों में से एक था लेकिन हमें उन लोगों को भी याद रखना चाहिए जिन्होंने इस दिन को हमें जीने के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया है| साथ ही हमें यह नहीं भूलना चाहिए की धर्म जाती या पंथ के आधार पर किसी भी प्रकार का जनसांख्यिकीय विभाजन केवल हमारी प्रगति के रास्ते का पत्थर होगा|

      सवतंत्रता दिवस के बाद ये उन्होंने हमें एक तरह का नया जन्म दिया है जो हम ऐसे आज़ादी से सवतंत्रता पूर्वक जी रहे हैं|

      अंग्रेजों के चंगुल से हमारे भारत को 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली थी| पूरी दुनिया में जहाँ पर भी भारतीय हैं इस राष्ट्रीय त्यौहार को हर साल बहुत खुशी और उत्साह के साथ मनाते हैं| सभी भारतीय नागरिकों के लिए यह महान दिन था जब भारत के तिरंगे झंडे को भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने दिल्ली के लाल किले में फहराया था|

      जय हिन्द|